/कांग्रेस नेत्री की बहू की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत, पुलिस जांच में जुटी

कांग्रेस नेत्री की बहू की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत, पुलिस जांच में जुटी

 631 total views,  1 views today

कांग्रेस की वरिष्ठ नेत्री पूनम भगत की पुत्रवधु की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई दो माह पहले ही कांग्रेस नेत्री के बेटे की शादी हुई थी नवविवाहिता बेटी की मौत से गुस्साए मायके वालों ने जमकर हंगामा करते हुए घर में तोड़फोड़ कर डाली कुछ युवकों ने कांग्रेस नेत्री के बेटे और नौकर की पिटाई भी की मायके वालों के संगीन आरोपों को देखते हुए पुलिस ने कांग्रेस नेत्री के बेटे को हिरासत में लेकर हर एंगल से जांच शुरू कर दी है मायके वालों और स्थानीय निवासियों ने पुलिस को बताया कि करीब 20 दिन पहले भी शुभम और यशिका के बीच झगड़ा हुआ था तब यशिका ने मायके वालों से शिकायत भी की थी लेकिन, उन्होंने बेटी को ही समझा बुझाकर मामला शांत करा दिया था

यशिका की शादी को अभी दो माह पूरे हुए हैं आखिर ऐसी क्या वजह है कि यशिका को जान देने पर मजबूर होना पड़ा बेटे का यह भी दावा है कि वह क्रिकेट मैच खेलने गया हुआ था और जब वह लौटा तो कमरे का दरवाजा अंदर से बंद था सवाल यह है कि पुलिस के आने पर शव बेड पर क्यों मिला यदि उसने दुपट्टे से फांसी लगाई हुई थी तो पुलिस के आने से पहले शव किसने और क्यों उतारा वहीं, मायके वालों और पुलिस के आने तक कांग्रेस नेत्री पूनम भगत घर पर नहीं थी कुछ परिचितों ने उनसे संपर्क किया, जिस पर पूनम भगत का कहना था कि वह विधानसभा प्रभारी के तौर पर भगवानपुर क्षेत्र में थी घर में क्या हुआ है, इस बारे में उन्हें कुछ जानकारी नहीं हैnवहीं, पुलिस कांग्रेस नेत्री के दावे की सच्चाई का भी पता लगा रही है

पुलिस के मुताबिक ज्वालापुर के मोहल्ला देवतान निवासी कांग्रेस नेत्री पूनम भगत के बेटे शुभम उर्फ शिवम की शादी करीब दो माह पहले पड़ोस में ही रहने वाले तीर्थ पुरोहित महेंद्र गौतम की बेटी यशिका से हुई थी बुधवार दोपहर पुलिस को सूचना मिली कि यशिका ने कमरे में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है।ज्वालापुर कोतवाली के एसएसआइ सुनील रावत पुलिस टीम के साथ पूनम भगत के घर पहुंचे तो यशिका का शव बेड पर पड़ा हुआ था उसके गले में दुपट्टे का फंदा पड़ा हुआ था। बेटी की मौत की सूचना पर मायके वाले और आसपास के निवासी पूनम भगत के घर पहुंच गए। गुस्साए मायके वाले और पड़ोसियों ने हंगामा करते हुए गमले, खिड़कियां तोड़ डाली। कुछ युवकों ने शुभम को पकड़कर पिटाई कर दी। बचाव में आए नौकर को भी पीटा। पुलिस ने बमुश्किल हंगामा शांत कराया और शुभम को भीड़ से बचाते हुए हिरासत में ले लिया। संदिग्ध परिस्थितियों में मौत के बाद हंगामे की सूचना पर सीओ सिटी अभय प्रताप सिंह ने भी मौके पर पहुंचकर जानकारी जुटाई। मायके वालों ने पूनम भगत, शुभम व परिवार के अन्य सदस्यों पर यशिका के उत्पीड़न का आरोप लगाया। पुलिस ने शव को जिला अस्पताल की मोर्चरी में रखवा दिया। एसपी सिटी कमलेश उपाध्याय ने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत का कारण स्पष्ट हो पाएगा। एहतियात के तौर पर पीएसी तैनात कर दी गई है। तहरीर मिलने पर मुकदमा दर्ज कर लिया जाएगा