173 total views,  2 views today

सिविल अस्पताल रुड़की सोमवार को चार दिन बाद खुला, इसके चलते अस्पताल मरीजों से खचाखच भरा रहा। रजिस्ट्रेशन काउंटर से लेकर पैथोलॉजी लैब तक में काफी भीड़ रही। इस बीच शारीरिक दूरी के नियम का भी उल्लंघन हुआ। हालांकि अस्पताल में लगे सुरक्षागार्ड बार-बार मरीजों को शारीरिक दूरी बनाकर रखने के लिए कहते रहे

सिविल अस्पताल रुड़की की तीन स्टाफ नर्स के कोरोना संक्रमित होने के बाद अस्पताल को चार दिन के लिए बंद कर दिया गया था। अस्पताल में चार दिन तक लगातार सैनिटाइजेशन किया गया। सोमवार को अस्पताल खोला गया। अस्पताल खुलते ही मरीज भी उमड़ पड़े। कुल 814 मरीज इलाज को पहुंचे। इनमें 309 मरीजों का नया पर्चा बना, जबकि पुराने पर्चे पर 505 मरीजों ने पैथोलॉजी एवं अन्य जांच कराई। मरीजों की अधिक संख्या होने से रजिस्ट्रेशन कांउटर, फीस काउंटर, पैथोलॉजी काउंटर और ओपीडी के बाहर मरीजों की कतार लगी रही

वहीं कतार में शारीरिक दूरी बनाकर रखने के लिए माइक से बार-बार अनाउंस होता रहा। वहीं सुरक्षा कर्मी भी मरीजों को आपस में दूरी बनाकर रखने के लिए कहते रहे। मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. संजय कंसल ने बताया कि सोमवार को उम्मीद से ज्यादा मरीजों की भीड़ रही। मरीजों को कोई दिक्कत न हो। इसके लिए सुबह से ही चिकित्सक ओपीडी में बैठक गए। सभी काउंटर पर कर्मचारी लगातार काम करते रहे। जांच के लिए अधिक मरीज होने से पैथोलॉजी लैब को अधिक समय से तक खोलना पड़ा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed