2,062 total views,  1 views today

इस वर्ष पितृ पक्ष और नवरात्र के बीच में अधिकमास पड़ने के कारण दोनों में एक महीने का अंतर होगा आश्विन मास में अधिकमास लगना और एक महीने के अंतर पर दुर्गा पूजा आरंभ होना ऐसा संयोग करीब 19 वर्षों बाद बन रहा है

हर वर्ष पितृ पक्ष के समापन के अगले दिन से नवरात्र का आरंभ हो जाता था पितृ अमावस्या के अगले दिन से प्रतिपदा के साथ शारदीय नवरात्र का आरंभ हो जाता है लेकिन इस साल ऐसा नहीं होगा इस बार पितृ पक्ष समाप्त होते ही अधिकमास लग जाएगा अधिकमास लगने से नवरात्र और पितृपक्ष के बीच एक महीने का अंतर आ जाएगा चतुर्मास जो हमेशा चार माह का होता है इस बार पांच माह का होगा

भारतीय प्राच्य विद्या सोसायटी के अध्यक्ष और ज्योतिषाचार्य प्रतीक मिश्रपुरी का कहना है कि अधिकमास पूरे वर्ष में किसी भी माह के बाद या पहले आ सकता है इस बार अधिकमास अश्विन मास के बाद आ रहा है यानी इस वर्ष दो अश्विन मास होंगे ये मास पितृ पक्ष के बाद प्रारंभ होगा और 30 दिनों तक रहेगा

हर बार पितृ पक्ष के बाद नवरात्र प्रारंभ होते हैं परंतु इस बार अधिकमास आने के कारण नवरात्र देर से शुरू होंगे ऐसा 19 साल बाद ऐसा संयोग बन रहा है। प्रतीक ने बताया कि कुछ विद्वानों का यह भी कहना है की ये संयोग 165 वर्षों के बन रहा है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *